कॉल 1917 या 26594500/ 61564500

Mahanagar Gas

होमकॉर्पोरेट

नेतृत्व

डॉ आशुतोष कर्नाटक

अध्यक्ष

डॉ आशुतोष कर्नाटक, गेल (इंडिया) लिमिटेड के निदेशक (परियोजना) को महानगर गैस लिमिटेड के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया और 28 मई, 2015 से प्रभावी रूप में अध्यक्ष चयनित किया गया. डॉ आशुतोष कर्नाटक आईआईटी दिल्ली से एम टेक (एनर्जी स्टडीज), इग्नू से एमबीए (फाइनेंस), पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज विश्वविद्यालय, देहरादून से पीएच.डी. और एचबीटीआई, कानपुर से बीटेक (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) हैं। डॉ कर्नाटक वर्तमान में 'परियोजना प्रबंधन में संगठनात्मक परिपक्वता' पर बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में पोस्ट-डॉक्टरेट कर रहे हैं।

डॉ कर्नाटक वर्तमान में स्कोप के कार्यकारी सदस्य हैं। वे एक बहु प्रतिभाशाली व्यक्तित्व हैं और परियोजना प्रबंधन और कर्मचारी इंगेजमेंट में विभिन्न नई तकनीकों का विकास किया है। डॉ कर्नाटक अंतर्राष्ट्रीय परियोजना प्रबंधन एसोसिएशन के शिक्षा और प्रशिक्षण बोर्ड (आईपीएमए), स्विट्जरलैंड के सदस्य थे, 'अंतर्राष्ट्रीय तकनीकी कार्य समूह' का हिस्सा थे जो 'तुर्कमेनिस्तान - अफगानिस्तान - पाकिस्तान - भारत (तापी) पाइपलाइन' के क्रियान्वयन के लिए गठित की गई थी और सीबीएसई समिति में 'औद्योगिक सदस्य' थे जिसने माध्यमिक विद्यालय शिक्षा में एक विषय के रूप में 'परियोजना प्रबंधन' को प्रस्तुत करने में शामिल किया था।

निदेशक (परियोजना) के रूप में उनकी नियुक्ति से पहले, डॉ कर्नाटक ने कार्यकारी निदेशक (परियोजना) गेल के रूप में और गेल गैस लिमिटेड, के आंशिक समय निदेशक के रूप में कार्य किया, जो अभी भी जारी है। 30 से अधिक वर्षों के अपने समृद्ध कैरियर की अवधि के दौरान, वे सफलतापूर्वक विविध मेगा परियोजनाओं के निष्पादन में कामयाब रहे जैसे क्रॉस कंट्री ट्रंक पाइपलाइनों का निर्माण जैसे दाभोल - बेंगलोर, दादरी - बवाना - नांगल, विजयपुर - दादरी, दहेज - विजयपुर, दहेज - उरण, दाभोल - पनवेल, दाभोल में आर-एलएनजी टर्मिनल, विजयपुर और पाटा, में पेट्रो रसायन संयंत्र, गंधार में एलपीजी गैस प्रसंस्करण संयंत्र आदि, के अलावा पवन और सौर ऊर्जा परियोजनाओं की अगुआई की। उन्होंने मुंबई में भारत के पहले सीएनजी नेटवर्क को लागू करने की अवधारणा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और वे मुंबई में 1 ली सीएनजी कार रैली के समन्वयक थे।

वे तेल और गैस सेक्टर पर पुस्तकों के लेखक हैं जैसे एशियन गैस ग्रिड – ए क्रिटिकल एनालाइसिस ऑफ इट्स फिजिबिलिटी, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट ऑफ हाइड्रोकार्बन पाइपलाइन्स – ए जर्नी के साथ ही स्व-विकास पर जैसे 'येस! यू कैन', 'वर्ड्स हैव पॉवर'। वे पीआई- सीआई- पीआई ("सकारात्मक भारत - सक्षम भारत - प्रोजेक्टाइज्ड भारत") नामक आंदोलन के प्रस्तावक हैं। उन्होंने 'अर्जुन (एमसी4ई2) ईसी’ नामक एक अभिनव परियोजना निगरानी और नियंत्रण तकनीक और एक योग्यता निर्माण मॉडल 'बी- डू- पे' नामक विकसित की है। इस के अलावा, उनकी ज्योतिष में उत्सुकतापूर्ण रुचि है और सामाजिक एवं विकास पहल के कुछ कामों में लगे हुए हैं।

श्री अपूर्व चंद्रा

निदेशक

श्री अपूर्व चंद्रा को महानगर गैस लिमिटेड के बोर्ड में निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

श्री अपूर्व चंद्रा ने आईआईटी, दिल्ली से सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक, आईआईटी, दिल्ली से स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग में एमटेक और इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड फाइनेंशियल ऑफ इंडिया से बिज़नेस फाइनेंस में डिप्लोमा किया है। श्री चन्द्र भारतीय प्रशासनिक सेवा, महाराष्ट्र कैडर 1988 बैच से आते हैं।

प्रधान सचिव (उद्योग), महाराष्ट्र सरकार के रूप में ज्वाइन करने से पहले, श्री अपूर्व चंद्रा ने 7 साल से अधिक भारत सरकार के पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय में व्यतीत किया। वे इंडस्ट्रीज को ईंधन आपूर्ति, परिवहन आपूर्ति, परिवहन, भंडारण और ईंधन उत्पाद वितरण, आदि के लिए ईंधन आपूर्ति नीतियां तैयार करने में शामिल थे, श्री चन्द्र सीधे प्राकृतिक गैस परिवहन बुनियादी ढांचे के साथ जुड़े थे, सिटी गैस वितरण कंपनियों को तैयार करने, एलएनजी आयात टर्मिनल की स्थापना और उद्योगों को गैस का आवंटन से जुड़े थे।

राज्य सरकार में, श्री चन्द्र सह उत्पादन संयंत्रों और इथेनॉल संयंत्रों की स्थापना सहित चीनी क्षेत्र के विकास के साथ संबद्ध थे।

श्री अपूर्व चंद्रा ने महारत्न पीएसयू, मेसर्स गेल (इंडिया) लिमिटेड और मेसर्स पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड के निदेशक मंडल में सेवा की है। वर्तमान में, श्री चन्द्र मेसर्स मॉयल, मेसर्स महाराष्ट्र एयरपोर्ट डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड, मेसर्स औरंगाबाद इंडस्ट्रियल टाउनशिप लिमिटेड और मेसर्स महाराष्ट्र विक्रीकर रोखे प्राधिकरण लिमिटेड के बोर्ड में निदेशक हैं।

श्री अखिल मेहरोत्रा

निदेशक

श्री अखिल मेहरोत्रा 11 मार्च 2016 से प्रभावी महानगर गैस लिमिटेड के निदेशक मंडल में निदेशक के रूप में नियुक्त किए गए हैं।

श्री मेहरोत्रा ​​तेल एवं गैस, बिजली और दूरसंचार क्षेत्र में 24 से अधिक वर्षों के अनुभव के साथ ऊर्जा सेक्टर प्रोफेशनल हैं। श्री मेहरोत्रा ​​वर्तमान में बीजी इंडिया में डाउनस्ट्रीम व्यवसाय निदेशक हैं। उनकी प्रमुख जिम्मेदारियों में शामिल हैं डाउनस्ट्रीम व्यवसाय और गैस बाजार के विकास की हिमायत का प्रबंधन।

श्री मेहरोत्रा ​ने गुजरात गैस कंपनी लिमिटेड में व्यवसाय विकास और रेगुलेटरी अफेयर्स के ​निदेशक पद पर कार्य किया है। उनके कैरियर में रिलायंस उद्योग समूह (रिलायंस इंडस्ट्रीज, रिलायंस इन्फोकॉम और बीएसईएस) हैंडलिंग पावर, पेट्रोकेमिकल्स और दूरसंचार व्यवसाय के साथ काम करना शामिल है।

उनकी प्रमुख विशेषज्ञता, है अन्य बातों के अलावा डाउनस्ट्रीम व्यवसाय का प्रबंधन, व्यवसाय विकास, गैस बाजार विकास, परियोजना प्रबंधन, ओ एंड एम, एचएसएसई, जोखिम प्रबंधन और संबंध प्रबंधन। श्री मेहरोत्रा ​ने ​"विजन 2030'- भारत में प्राकृतिक गैस इंफ्रास्ट्रक्चर पर समिति की अध्यक्षता की, जिसका सेटअप पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड (पीएनजीआरबी) ने तैयार किया। समिति ने मई 2013 में अपनी रिपोर्ट पेश की। वह भारत में गैस क्षेत्र में नियमों का मसौदा तैयार करने के लिए पीएनजीआरबी द्वारा स्थापित अधिकांश समितियों का हिस्सा रहे।

श्री अखिल मेहरोत्रा ने राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज, जबलपुर से बी.ई. (मैकेनिकल इंजीनियरिंग) में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। उन्होंने इग्नू से एमबीए (फाइनेंस) (अंशकालिक), इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, बेंगलोर (आवासीय कोर्स) से मैनेजमेंट प्रोग्राम, आईसीएफएआई, हैदराबाद से बिज़नेस फाइनेंस से डिप्लोमा (अंशकालिक) और डिप्लोमा किया है।

श्री राजीव माथुर

प्रबंध निदेशक

श्री राजीव माथुर पेशे से इंजीनियर हैं, बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन में मार्केटिंग मैनेजमेंट के साथ मास्टर की डिग्री है और प्राकृतिक गैस और पेट्रो रसायन उद्योग में व्यापक अनुभव के तीन दशक दिए हैं।

श्री माथुर ने अपनी अपना कैरियर गेल के साथ शुरू किया इसकी स्थापना के बाद से और कार्यकारी निदेशक (विपणन) के पद पर पदोन्नत किए गए। गैस उद्योग में उनके 30 वर्षों के समृद्ध अनुभव में, उन्होंने विपणन और व्यवसाय विकास क्षेत्रों के विभिन्न प्रोफाइल के तहत कई पहलों को चलाया। उनके एसाइनमेंट में शामिल थे गेल अर्थात प्राकृतिक गैस ट्रेडिंग में विपणन कार्य की देखरेख, गैस ट्रांसमिशन और अन्य संबद्ध उत्पादों का भारत और विदेश में विपणन; प्रभारी रेगुलेटरी अफेयर्स विभाग के रूप में नियामक ढांचा, मूल्य निर्धारण, अनुबंध प्रबंधन और उच्च दांव के कानूनी मामलों के साथ ही हितधारकों अर्थात निवेशकों, प्रमुख मंत्रालयों, औद्योगिक कक्षों, आदि की हैंडलिंग का अनुपालन सुनिश्चित करना। वह इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (दिल्ली में एक शहरी गैस वितरण कंपनी) के बोर्ड में प्रमोटर के नामिनी थे जो वित्तीय विवेक के अर्थ में कॉर्पोरेट प्रशासन सुनिश्चित करता है, शेयरधारकों की वेल्यू बढ़ाने के लिए सामरिक व्यापार योजनाएं तैयार करता है।

उपरोक्त के अलावा, श्री माथुर ने सफलतापूर्वक 08 एशिया गैस भागीदारी सम्मेलन (एजीपीएस) (दक्षिण एशिया में सबसे बड़ा प्राकृतिक गैस घटना) समन्वित की, ऊर्जा के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग के दौरान भारत का प्रतिनिधित्व किया, एमओपीएनजी के लिए प्राकृतिक गैस के लिए प्राकृतिक गैस क्षेत्र पर दृष्टिकोण पत्र तैयार करने के लिए उप समूह के लिए समन्वयक के रूप में काम किया। श्री माथुर राष्ट्रीय गैस नियामक बोर्ड विधेयक, 2001 तैयार करने, संरचना और उसका मसौदा तैयार करने में एमओपीएनजी के साथ भी जुड़े थे।

हाल ही में, वह महानगर के प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभालने के बाद से मुंबई आ गए हैं।

सुश्री सुष्मिता सेन गुप्ता

तकनीकी निदेशक

सुश्री सुष्मिता सेन गुप्ता को 15 फरवरी, 2014 से प्रभावी बोर्ड में तकनीकी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

महानगर गैस लिमिटेड में शामिल होने से पहले, वे डीसीपी मिडस्ट्रीम, डेनवर/ मिडलैंड, सीओ/टीएक्स, अमेरिका में इंजीनियरिंग, परियोजना प्रबंधन में निदेशक के पद पर थीं। सुश्री सेनगुप्ता, ने अन्य बातों के साथ बहुआयामी परिचालन आस्तियों (पाइप लाइन, कंप्रेसर स्टेशनों, प्रसंस्करण संयंत्रों) के लिए आंतरिक और ईपीसीएम इंजीनियरिंग/ निर्माण परियोजना गतिविधियों का नेतृत्व किया है। वह परियोजना नियंत्रण/ फोरकास्टिंग/ रिपोर्टिंग गतिविधियों के प्रबंधन में हाथ अजमाया है। उन्होंने इंजीनियरिंग और एचएसई के लिए आवश्यक प्रमाण पत्र, प्रेक्टिस, नीतियों, प्रक्रियाओं को तैयार और लागू किया और कर्मचारी और ईपीसीएम परफार्मेंस समीक्षा का प्रबंध किया है।

उनके पूर्व अनुभव में शामिल है परियोजना निदेशक, इएनओजीइएक्स/ ओजीई के लिए परियोजना प्रबंधन, ओक्लाहोमा सिटी, ओके, अमरीका के रूप में, इंजीनियरिंग प्रबंधक के रूप में, वरमोंट गैस सिस्टम के लिए इंजीनियरिंग और ज़ंग विभाग, बर्लिंगटन, वीटी, अमेरिका, औपचारिक नेता के रूप में, दक्षिण पूर्व क्षेत्र, एमआईसीएच सीओएन गैस कंपनी, डेट्रोइट, एमआई, अमरीका के लिए निर्माण और रखरखाव, ब्रिटिश गैस पीएलसी., लंदन/ लाफबरो, और दूसरों के बीच ब्रिटेन के लिए कार्यक्रम प्रबंधक के रूप में काम करना। उनके कैरियर की अवधि के दौरान, जिम्मेदारियों में शामिल है परियोजना बजट नियंत्रण और वित्तीय रिपोर्टिंग के सभी चरणों का प्रबंधन, कंपनी विनिर्देशों और नियामक मानकों के अनुसार परियोजना चलाना सुनिश्चित करना और अनुबंध के अनुसार लागू करना, समूह के व्यापार की योजना और बजट तैयारी करना और बनाए रखना।

सुश्री सुष्मिता सेनगुप्ता कैलगरी, अलबर्टा विश्वविद्यालय केमिकल और पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में एम एससी हैं और अलबर्टा ऑइल सैंडस टेक्नोलॉजी एण्ड रिसर्च अथारिटी स्कालरशिप से एओएसटीआरए स्कालर हैं। वह पेशेवर इंजीनियर, कनाडा, पाइपलाइन इंस्पेक्टर्स सर्टिफिकेशन, कनाडा और जीआरआई/ पीआरसीआई एनडीटी कमेटी, नॉर्थ- ईस्ट गैस एसोसिएशन, एजीए, एएसएमई, एसीएक्जई से संबद्ध हैं।

श्री जैनेन्द्र कुमार जैन

निदेशक

श्री जैनेन्द्र कुमार जैन को एक स्वतंत्र गैर कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

श्री जैन, 69 साल के हैं, जो गेल के पूर्व निदेशक (वित्त) हैं, वे चार्टर्ड अकाउंटेंट और इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंटस ऑफ इंडिया के फैलो सदस्य हैं। उनके वित्त गतिविधि में विभिन्न क्षमताओं में विभिन्न संगठनों में कुल बत्तीस साल का अनुभव है। श्री जैन गेल में 1996 से 2005 तक निदेशक (वित्त) थे। वे जनवरी 1998 से अगस्त 2003 तक महानगर गैस लिमिटेड के निदेशक मंडल में गेल के नामित निदेशक थे। वे पूर्व में कई अन्य कंपनियों के अलावा इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड के बोर्ड में रहे हैं। वर्तमान में, श्री जे.के. जैन मेसर्स जमना ऑटो इंडस्ट्रीज लिमिटेड और मेसर्स ईआईसीएल लिमिटेड के बोर्ड में निदेशक हैं। श्री जे.के. जैन को वित्त, निवेश, फंडिंग, अनुपालन, निगमित प्रशासन, जोखिम प्रबंधन आदि के क्षेत्रों में व्यापक अनुभव है।

श्री अरुण बालाकृष्णन

निदेशक

श्री अरुण बालाकृष्णन को स्वतंत्र गैर कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

श्री अरुण बालाकृष्णन, 64 वर्ष के हैं, जो जुलाई 2010 में हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) से अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुए, वे कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, त्रिचूर, केरल से बी.ई. (केमिकल) में स्नातक हैं और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, बंगलौर, 1976 से प्रबंधन में स्नातकोत्तर डिप्लोमा रखते हैं।

उन्होंने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, बंगलौर से ‘प्रतिष्ठित पूर्व छात्र पुरस्कार 2008’ प्रदान किया था।

श्री अरुण बालाकृष्णन मेसर्स एचपीसीएल-मित्तल पाइपलाइन लिमिटेड, मेसर्स एनसीडीईएक्स ई-मार्केट्स लिमिटेड, मेसर्स लिंडे इंडिया लिमिटेड, मेसर्स लिंडे इंडिया लिमिटेड, मेसर्स जेपीपी इन्फ्राटेक लिमिटेड, मेसर्स केएसएस ग्लोबल बीएलवी, मेसर्स एंट्रिक्स कॉरपोरेशन लिमिटेड और मेसर्स जयप्रकाश पावर वेंचर्स लिमिटेड के बोर्ड में निदेशक रहे हैं। इसके अलावा, श्री बालाकृष्णन इंस्टीट्यूट ऑफ डाइरेक्टर, बेंगलोर के मानद अध्यक्ष के रूप में भी नियुक्त किए गए।

सुश्री राधिका हरिभक्ति

निदेशक

सुश्री राधिका हरिभक्ति को 05 मार्च 2017 से प्रभावी स्वतंत्र नॉन- एग्ज़िक्युटिव निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

सुश्री राधिका हरिभक्ति आईआईएम, अहमदाबाद से वित्त में एमबीए हैं। वह गुजरात विश्वविद्यालय से वाणिज्य स्नातक हैं। सुश्री हरिभक्ति को बैंक ऑफ अमेरिका, जेएम मॉर्गन स्टेनली और डीएसपी मेरिल लिंच के साथ वाणिज्यिक और निवेश बैंकिंग में 30 से अधिक वर्षों का अनुभव है। उन्होंने कई बड़ी कम्पनियों को सलाह दी है और घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय पूंजी बाजार में उनकी इक्विटी और ऋण धन उगाहनों का नेतृत्व किया है। वे अब आरएच फाइनेंशियल की प्रमुख हैं, जो बुटीक सलाहकार फर्म है और एम एण्ड ए और प्राइवेट इक्विटी पर केंद्रित है।

उन्होंने अदानी पोर्ट्स एण्ड स्पेशल इकॉनोमिक जोन, ईआईएच एसोसिएटेड होटल्स लि, आईसीआरए लि, नवीन फ्लोराइन इंटरनेशनल लि, रेन इंडस्ट्रीज लि और विस्तार फाइनेंशियल सर्विसेज प्रा लि के बोर्डों पर स्वतंत्र निदेशक के रूप में वे कार्य कर रही हैं।

सुश्री हरिभक्ति महिला सशक्तिकरण, वित्तीय समावेशन और सीएसआर के मुद्दों के साथ भी निकट रूप से जुड़ी हुई हैं और 18 वर्षों से गैर-लाभकारी बोर्डों में सेवा की है, जिसमें 12 वर्ष अध्यक्ष रहना भी शामिल है। वे फ्रेंड्स ऑफ विमिन्स वर्ल्ड बैंकिंग (एफडब्ल्यूडब्ल्यूबी) और स्वाधारफाइनेंस की पूर्व अध्यक्ष रही हैं, दोनों नॉन- प्राफिट आर्थिक रूप से वंचित समुदायों में महिलाओं को वित्तीय समाधान प्रदान करने के कार्य से जुड़ी हैं। उन्होंने राष्ट्रीय जूरी और गवर्निंग काउंसिल ऑफ सिटीग्रुप माइक्रो एंटरप्राइज अवार्ड और सीआईआई के महिला सशक्तीकरण पर राष्ट्रीय समिति में भी काम किया है।

श्री संतोष कुमार

निदेशक

श्री संतोष कुमार को स्वतंत्र गैर कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

श्री संतोष कुमार, जो गेल से निदेशक (परियोजना) के रूप में सेवानिवृत्त हुए हैं, वे मोतीलाल नेहरू इंजीनियरिंग कॉलेज, इलाहाबाद (1970 बैच) से इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हैं। उनका उर्वरक एवं दूरसंचार में कुल तीस से अधिक वर्षों का अनुभव है इसके बाद बड़ा हिस्सा तेल और गैस उद्योग भारत में, विशेषकर मानव संसाधन विकास कौशल के क्षेत्र में समृद्ध और विविध अनुभव और बाद में परियोजना गतिविधियों के प्रमुख के रूप में इसके बाद भारत के राष्ट्रपति द्वारा गेल के निदेशक मंडल में निदेशक (परियोजना) के रूप में नियुक्ति।

श्री संतोष कुमार नवंबर 2006 से जून 2009 तक गेल में निदेशक (परियोजना) थे। गेल में अपने कार्यकाल के दौरान, वे ग्रीन गैस लिमिटेड, लखनऊ और महाराष्ट्र नेचुरल गैस लिमिटेड, पुणे के अध्यक्ष और सेंट्रल यूपी गैस लिमिटेड, कानपुर, नेटगैस, मिस्र और जीएसईजी के निदेशक मंडल में रहे और रत्नागिरी गैस एंड पावर प्रा. लि.,

दाभोल के पहले मंडल के निदेशक थे। वे सितंबर 2009 से अगस्त 2010 तक जीएसपीएल, अहमदाबाद के सलाहकार थे।

वे मेसर्स इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड के मंडल में अतिरिक्त निदेशक (स्वतंत्र) भी हैं। श्री कुमार परियोजना वित्त एसबीयू, भारतीय स्टेट बैंक के सलाहकार (तेल और गैस) भी हैं।

श्री राज किशोर तिवारी

निदेशक

श्री राज किशोर तिवारी को स्वतंत्र गैर कार्यकारी निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

उन्होंने बीएससी (ऑनर्स) और (भौतिकी) एमएससी लखनऊ, विश्वविद्यालय से, एमएससी (राजकोषीय अध्ययन) बाथ विश्वविद्यालय, ब्रिटेन से और एलएलबी मुंबई विश्वविद्यालय से किया।

श्री तिवारी भारतीय राजस्व सेवा में अधिकारी भर्ती हुए थे और 1976 से प्रत्यक्ष कर प्रशासन का हिस्सा रहे। उन्हें प्रत्यक्ष करों से संबंधित मामलों में करीब 38 साल की विशेषज्ञता और व्यापक अनुभव है और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) से सदस्य और अध्यक्ष के रूप में सेवानिवृत्त हुए। वे भारत सरकार की प्रत्यक्ष कर नीति में सक्रिय रूप से निर्माण, कार्यान्वयन और प्रशासन में शामिल रहे।

सीबीडीटी के एक सदस्य/ अध्यक्ष के रूप में, उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार/ सम्मेलन यानि कर प्रशासकों का राष्ट्रमंडल एसोसिएशन (सीएटीए), अक्टूबर 2012 में माल्टा में संगोष्ठी; दिसंबर 2013 में मार्राकेश, मोरक्को में अंतर्राष्ट्रीय कर वार्ता (आईटीडी) संगोष्ठी; और मई 2014 में रियो डी जनेरियो, ब्राजील में अंतर अमेरिकी केंद्र के कर प्रशासन के सम्मेलन में भाग लिया, और प्रभावी ढंग से भारत की स्थिति प्रोजेक्टेड की। सिएट ने अब वर्तमान एसोसिएट सदस्यता के बदले भारत को स्थायी सदस्यता की पेशकश की है।

श्री सुनील एम रानाडे

मुख्य वित्तीय अधिकारी, एसएमजी सदस्य

श्री सुनील एम रानाडे, 54 वर्ष के हैं, वे हमारी कंपनी के मुख्य वित्तीय अधिकारी हैं। वे 1 मार्च 1996 को हमारी कंपनी में शामिल हुए. उन्होंने बंबई विश्वविद्यालय से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री प्राप्त की है।

वे इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया के एसोसिएट सदस्य और इंस्टीट्यूट ऑफ कम्पनी सेक्रेटरी ऑफ इंडिया के सदस्य हैं। हमारी कंपनी में, वे वित्त और लेखा समूह के कार्यात्मक प्रमुख हैं और कंपनी के वित्तीय और रणनीतिक उद्देश्यों को प्राप्त करने में वित्त, लेखा और फोरकास्टिंग का प्रबंध करते हैं। हमारी कंपनी ज्वाइन करने से पहले, वे वांडर लिमिटेड में वित्त प्रबंधक और कंपनी सचिव थे। उन्होंने हेर्दिलिया पॉलिमर लिमिटेड, नेशनल पेरॉक्साइड लिमिटेड, गुडलास नेरोलैक पेंट्स लिमिटेड और अशोक आर्गनिक इंडस्ट्रीज लिमिटेड में भी काम किया है।

श्री राजेश पी वागले

प्रमुख - वाणिज्यिक, एसएमजी सदस्य

श्री राजेश पी वागले, 50 वर्ष, हमारी कंपनी के प्रमुख वाणिज्यिक हैं। उन्होंने 22 जुलाई 2002 को हमारी कंपनी ज्वाइन की. वे मुंबई के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से केमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री प्राप्त हैं। वे उर्बना शेंपेन में इलिनोइस विश्वविद्यालय से कंप्यूटर साइंस में मास्टर की डिग्री भी प्राप्त हैं। हमारी कंपनी में, वे वाणिज्यिक, व्यवसाय विकास और विपणन समूह के कार्यात्मक प्रमुख हैं। हमारी कंपनी ज्वाइन करने से पहले, उन्होंने क्वांटम इन्फार्मेशन सिस्टम्स लिमिटेड, एनरॉन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और गेल के साथ काम किया है।

श्री शाश्वत अग्रवाल

प्रमुख - निर्माण, एसएमजी सदस्य

श्री शाश्वत अग्रवाल, उम्र 47, हमारी कंपनी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष हैं। उन्होंने 1 अप्रैल 2014 को हमारी कंपनी ज्वाइन की। वे कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से प्रौद्योगिकी और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री प्राप्त हैं। हमारी कंपनी में, वे निर्माण विभाग के कार्यात्मक प्रमुख हैं और हमारी कंपनी की सभी निर्माण और परियोजना गतिविधियों के लिए नेतृत्व, प्रबंधन और दिशा प्रदान करने के लिए जिम्मेदार हैं। हमारे साथ जुड़ने से पहले, उन्होंने इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड और जीएसपीसी गैस कंपनी लिमिटेड के साथ काम किया है।

श्री श्रीनिवासन मुरली

प्रमुख, संचालन और रखरखाव, एसएमजी सदस्य

श्री श्रीनिवासन मुरली, 52, हमारी कंपनी के संचालन और रखरखाव प्रमुख हैं। वे 3 अक्टूबर , 2002 को हमारी कंपनी में शामिल हुए. उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से प्रौद्योगिकी और मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री प्राप्त की है। वे प्रबंधन में डिप्लोमा और एडवांस्ड डिप्लोमा प्राप्त हैं, और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय से वित्तीय प्रबंधन में डिप्लोमा प्राप्त हैं। हमारी कंपनी में, वे संचालन, रखरखाव और पैमाइश विभागों के कार्यात्मक प्रमुख हैं और नेतृत्व और प्रबंधन के लिए जिम्मेदार हैं और हमारी कंपनी की संपत्ति संचालन और रखरखाव से संबंधित सभी गतिविधियों के लिए दिशा प्रदान करना सुरक्षित रूप से और अधिकतम अपटाइम के साथ। हमारी कंपनी ज्वाइन करने से पहले, उन्होंने बिल्ट केमिकल्स लिमिटेड, कैबोट इंडिया लिमिटेड, सीमेंट कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड और इंडियन एल्युमिनियम कंपनी लिमिटेड के साथ काम किया है।

श्री आलोक मिश्रा

कंपनी सचिव एवं अनुपालन अधिकारी

श्री आलोक मिश्रा, 38 वर्ष, हमारी कंपनी के कंपनी सचिव और अनुपालन अधिकारी हैं। उन्होंने 13 दिसंबर 2011 को हमारी कंपनी ज्वाइन की। वे सीएसजेएम विश्वविद्यालय, कानपुर से विज्ञान में स्नातक की डिग्री और कानून में स्नातक की डिग्री प्राप्त हैं। वे इंस्टीट्यूट ऑफ कम्पनी सेक्रेटरीज़ ऑफ इंडिया के सहयोगी सदस्य हैं और इंस्टीट्यूट ऑफ कास्ट एण्ड वर्क्स एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण की है। उन्होंने इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट ऑफ इंडिया से बिज़नेस फाइनेंस में डिप्लोमा पूरा कर लिया है।

हमारी कंपनी में, वे वर्तमान में कॉर्पोरेट, सचिवीय, जोखिम प्रबंधन और हितधारक प्रबंधन संभालते हैं। उन्हें कानूनी और कॉर्पोरेट सचिवीय कार्यों में 14 साल से अधिक अनुभव है। हमारे साथ जुड़ने से पहले, उन्होंने कई कम्पनियों के साथ काम किया जिनमें शामिल हैं आईएसएस इंटेग्रेटिड फेसिलिटी सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, लाफार्ज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और गो एयरलाइंस (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड।