कॉल 1917 या 26594500/ 61564500

Mahanagar Gas

होमसीएसआरसीएसआर पहल

शिक्षा

हमारा दृढ़ विश्वास है कि राष्ट्र को बदलने के लिए एक ही रास्ता है, शिक्षा के साधन के माध्यम से। हमने इसलिए एमजीएल में हस्तक्षेप के क्षेत्रों में शिक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता वाले रूप में जगह दी है। एमजीएल उन्नति हमारे सीएसआर हस्तक्षेप का प्रमुख है जिसके तहत सामाजिक-आर्थिक रूप से कमजोर तबके के मेधावी युवाओं को प्रशिक्षित और इंजीनियरिंग कॉलेजों के लिए प्रतियोगी प्रवेश परीक्षा का सामना करने के लिए मार्गदर्शन कर रहे हैं। जीवन की लंबी अवधि के लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित कर, यह परियोजना भविष्य को आकार देने में विश्वास करती है ताकि अज्ञात पथ परिभाषित किया जाए निकला न जाए। इस पहल के तहत 50 छात्रों प्रशिक्षित किया गया जिससे 97% छात्रों को विभिन्न इंजीनियरिंग कॉलेजों और 23.3% को आईआईटी/ एनआईटी में दाखिला मिला। साथ ही एमजीएल ने सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वालों के लिए वन टाइम छात्रवृत्ति का विस्तार किया है।

आकाश जगताप (परिवर्तन की गाथा...)

आकाश विनोदराव जगताप महाराष्ट्र के दूरदराज के एक गांव का किशोर है। आकाश दूरदराज के गांव में पैदा हुआ और एक असाधारण बुद्धिमान है। इसने उसे नवोदय विद्यालय में प्रवेश लेने के लिए सक्षम किया जिसने उसे जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में अवसरों से अवगत कराया। अन्य छात्रों के साथ उसकी बातचीत ने उसमें तकनीकी अध्ययन की कामना जगाई।

अपने शब्दों में आकाश कहता है:-

"मेरा गांव इतना विकसित नहीं है इसलिए यहां लोग अत्यधिक शिक्षित नहीं हैं। 12 वीं कक्षा पास करने वाला अपने गांव से मैं पहला लड़का हूँ । नवोदय में मेरे दोस्तों ने आईआईटी के बारे में चर्चा की इसने मुझे मोहित किया। आईआईटी में जाना मेरे लिए सपना हो गया।"

दुर्भाग्य से जब आकाश अभी पढ़ ही रहा था उसके पिता विनोदराव जगताप की मृत्यु हो गई। उसकी मां की 12,000/- रुपए प्रति माह की आय किसी तरह उनके रहने में मदद कर रही थी। 12 वीं पूर्ण करने के बाद आकाश को अभी भी कठिन प्रतियोगी प्रवेश परीक्षा का सामना करने के लिए सुसज्जित होने के लिए आवश्यक सतर्क मार्गदर्शन और प्रशिक्षण की आवश्यकता थी। हालांकि, उसकी मां की आय इसे सपोर्ट नहीं कर सकती थी। ऐसे में आकाश ने 'एमजीएल उन्नति’- महानगर गैस लिमिटेड की एक पहल के बारे में सुना जो समाज के निचले सामाजिक-आर्थिक तबके के छात्रों के लिए नि:शुल्क प्रशिक्षण प्रदान करता है। आकाश एमजीएल उन्नति के लिए प्रवेश परीक्षा में शामिल हुआ और चुना गया। इसके बाद शुरू हुआ 11 महीने का कठोर अध्ययन, प्रशिक्षण और मार्गदर्शन जिसने आकाश और 19 अन्य छात्रों को आईआईटी प्रवेश परीक्षा में प्रदर्शन के लिए लैस किया। आकाश ने प्रवेश परीक्षा पास की और अब आईआईटी दिल्ली में पढ़ रहा है। उसकी सफलता के बाद महानगर गैस लिमिटेड ने आकाश जगताप और 3 अन्य सफल छात्रों को एमजीएल उन्नति के रु 50,000/- की वन टाइम छात्रवृत्ति से सम्मानित किया।

परीक्षा पास करने के बाद आकाश का निम्नलिखित कहना था:-

"मैं अपने तक बढ़ाए समर्थन के लिए एमजीएल उन्नति का शुक्रिया अदा करना रोक नहीं सकता। अब मैं आईआईटियन बनने का अपना सपना पूरा करने की ओर बढ़ रहा हूँ। मैं अपने गांव के लिए काम करना चाहता हूं ताकि वहाँ के बच्चे ज्ञान और अवसरों से वंचित न रह सकें।"

विकास के लिए खेल एक बाल केंद्रित सीएसआर हस्तक्षेप है जो एमजीएल ​​द्वारा कार्यान्वित की जा रही है। यह परियोजना गतिविधि आधारित शिक्षण पर केंद्रित है और मुंबई और आसपास के दो झोपडपट्टी क्षेत्रों में 1500 से अधिक बच्चों तक पहुँचता है।

विश्व जल दिवस जल संचय अभियान

विश्व जल दिवस के अवसर पर 21 और 22 मार्च 2016 को क्रमश: शारदा स्कूल, भुवापाड़ा और आर के स्कूल, भुवापाड़ा के छात्रों द्वारा 'जल संचय अभियान' आयोजित किया गया। अभियान 'विकास कार्यक्रम के लिए खेल' के तहत आयोजित किया गया था। लगभग 400 बच्चों ने अभियान में भाग लिया।

एमजीएल कोमल जीवन सड़क के बच्चों - ऐसे बच्चे जो रोते हैं और उनका दर्द शहर की आपाधापी के बीच खो जाता है उनके कल्याण के लिए बनाई गई पहल है। जो एक अर्थहीन जीवन जी रहे हैं; ये बच्चे शोषण के सभी प्रकार के सबसे कमजोर शिकार हैं। विस्तृत कारणों में शामिल हैं माता पिता दोनों या एक की मौत, गरीबी, परिवारों का टूटना, यौन शोषण, शारीरिक शोषण, भावनात्मक दुरुपयोग, घरेलू हिंसा, मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं, मादक द्रव्यों का सेवन, लिंग पहचान, यौन अभिविन्यास, आदि इन बच्चों को घर से बाहर ले जाते हैं और उन्हें शोषण और जबरन वसूली के जोखिम में ढकेलते हैं। सपोर्ट संरचना की कमी की वजह से ये बच्चे अपने जीवन की कठोर वास्तविकताओं का सामना करने के लिए रणनीतियों को अपनाते हैं। इन रणनीतियों में शामिल हैं एक कठिन आवरण, मजबूत आजादी का विकास करना अपने जोखिम को छिपाने के लिए और अन्य लोगों के साथ समूहों का गठन। परिस्थितियां बच्चों को ऐसे व्यवहार की ओर ले जाती हैं जैसे परिवारों में बच्चे आम तौर पर ऐसा नहीं करते।

बुरी अपनाई रणनीतियों जैसे शराब पीना, ड्रग सेवन, मादक द्रव्यों का सेवन, चोरी (या तो स्वैच्छिक या मजबूर होकर), भिक्षावृत्ति, आक्रामक दृष्टिकोण, आदि इन्हें रणनीति के रूप में पहचाना जा सकता है जो बच्चों को कानून तोड़ने वाला बनाते हैं।

कमजोरियां, दुर्व्यवहार और अपनाई रणनीतियां अक्सर एक नकारात्मक ढांचा रचती हैं जो आसानी से और अधिक आक्रामक और हिंसक व्यवहार बनाती हैं जिससे बच्चे की मासूमियत नष्ट होती है और कानून तोड़ने वाला बनाती हैं।

परियोजना का लक्ष्य है कमजोर, बिना छत वाले और बिना जड़ वाले बच्चों तक पहुँचना जो निराशा और हताशा का जीवन व्यतीत कर रहे हैं। विचार है इन मासूम जीवनों का पोषण करना ताकि वे गरिमा का जीवन व्यतीत कर सकें और समाज में सकारात्मक योगदान दे सकें। 65 ऐसे बच्चों का आश्रय घर में पुनर्वास किया जा रहा है, जबकि अन्य 2500 तक आउटरीच गतिविधियों के तहत पहुँचा गया। आश्रय घर में 100% बच्चों को औपचारिक स्कूलों में भर्ती कराया गया है। कम्प्यूटर साक्षरता और व्यक्तित्व विकास कक्षाएं, नियमित कार्यशालाएं, सेमिनार और परामर्श आयोजित किए जाते हैं उनकी पसंद के कैरियर के विकल्प पाने में उन्हें सहायता के लिए।

एमजीएल मुस्कान

'एमजीएल मुस्कान' झुग्गी समुदाय के सदस्यों के बीच जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाने के उद्देश्य के साथ बनाई गई सामुदायिक विकास पहल है।

  • 60 से अधिक बच्चे सपोर्ट कक्षाओं और कंप्यूटर कक्षाओं का लाभ पा रहे हैं।
  • 130 बच्चे बालवाड़ी और पूरक पोषण से लाभान्वित हैं।
  • 40 बच्चों को बोलचाल की अंग्रेजी कक्षाओं से लाभ हुआ।
  • 550 से अधिक रोगी नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविरों से लाभान्वित हुए।
  • 50 युवक कंप्यूटर कौशल पर प्रशिक्षित हो रहे हैं और 30 से अधिक महिलाओं को सिलाई कक्षाओं के तहत कवर किया गया है।